मासिक धर्म में देरी के कारण :-.मासिक धर्म संसार में प्रत्येक लड़की और महिला के शरीर की एक प्राकृतिक क्रिया है और यह उनके जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा भी है।कभी -कभी महिलाओं को मासिक धर्म में देरी की समस्या से भी गुजरना पड़ता है, जो उनके लिए बड़ा ही कष्टप्रद होता है।आजकल महिलायें मासिक धर्म को जल्दी या देरी से लाने का प्रयास करती हैं,जो उनके स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डालती हैं। मासिक धर्म में देरी के कुछ कारण निम्नलिखित हैं -

(१)हार्मोन में बदलाव 

(२)बीमारी जैसे -थायरॉइड ,पी.ओ.एस.(पोलिस्टिक ओवरी सिंड्रोम ),सही पोषक तत्त्व न लेना आदि 

(३)तनाव 

(४)दवाइयों का प्रतिकूल प्रभाव 

उपचार :-

(१)एक चम्मच सौंफ चार चम्मच पानी में डालकर उबालें और फिर छानकर पानी को ठंडा कर दिन में थोड़ी -थोड़ी देर बाद पीने से मासिक धर्म समय पर आने लगता है।

(२)दालचीनी पॉउडर आधा चम्मच को दूध में मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से मासिक धर्म नियमित हो जाता है और साथ ही ज्यादा रक्त स्राव भी नहीं होता है।  

(३)आधा चम्मच अदरक के रस को शहद में मिलाकर मासिक धर्म होने की तारीख से एक सप्ताह पहले खाना शुरू करने से देरी की समस्या से निजात मिल जाती है। 

(४)एक कटोरी पका पपीता या पपीता का जूस मासिक की तारीख से एक या दो सप्ताह पहले खाने या जूस पीने से मासिक धर्म की समस्या दूर हो जाती है ।

(५)आधा चम्मच अरंडी के तेल से  पेट के निचले हिस्से की मालिश करें और १५-२० मिनट तक सिकाई मासिक धर्म के एक सप्ताह पहले से करें ।आपकी मासिक धर्म की सारी समस्या दूर हो जाएगी ।  


0 Comments


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग