जलोदर लक्षण :- बीमारी में पेट में सूजन आ जाती है । पेट में पानी जमा हो जाता है,इसलिए इसे जलोदर के नाम से जाना जाता है ।पानी भरने से पेट का अगला भाग बढ़ने लगता है|श्वसन में परेशानी ,प्यास ,दिल धड़कना ,पेशाब का कम होना ,कब्ज ,पेट में पानी की आवाज हिलने -डुलने पर महसूस होना आदि इनके लक्षण हैं |

उपचार :-   (१)गोमूत्र अर्क और मकोय अर्क को दो -दो चम्मच साथ में पानी में मिलकर रोगी को पिलाने से जलोदर की बीमारी दूर हो जाती है ।

                (२)अजवाइन को गाय के बछड़े के मूत्र में भिंगोकर सुखाकर चूर्ण बना लें और चार -चार ग्राम रोगी को देने से जलोदर रोग नष्ट होता है ।               (३)बेलपत्र के ताजे पत्ते के स्वरस में दो से तीन तोला तक छोटी पीपली के चूर्ण के साथ मिलाकर सेवन करने से जलोदर की बीमारी दूर हो जाती है ।  

 


0 Comments


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग