cerebral aneurysm disease

मस्तिष्क धमनी विस्फार या प्रमस्तिष्कीय उत्स्फार रोग :- आज की भाग दौड़ भरी जीवन शैली में लोगों की दिनचर्या में व्यापक बदलाव के कारण मानव तनाव,अवसाद आदि कारणों से व्यथित है।परिणामस्वरूप विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित हैं।मस्तिष्क धमनी विस्फार उनमें एक बहुत ही गंभीर एवं जानलेवा बीमारी है।इसमें मस्तिष्क की धमनी का कोई भाग फूल जाता है और उनमें खून भर जाता है।इसे सेरिब्रल अनियरिज्म या इंट्राक्रेनियल अनियरिज्म कहा जाता है।मस्तिष्क धमनी विस्फार एक प्रकार से जानलेवा स्थिति है,जो किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है।इसमें ब्रेन स्ट्रोक या ब्रेन डैमेज के कारण मरीज की मौत भी हो जाती है।

लक्षण :- अचानक सिरदर्द,होश खोना,मितली और उल्टी,चक्कर आना,चलते हुए संतुलन खोना,गर्दन में अकड़न,धुंधला दिखना,रौशनी से संवेदनशीलता आदि मस्तिष्क धमनी विस्फार के प्रमुख लक्षण हैं। 

कारण:- उच्च रक्तचाप,एथ्रोरोसेक्लोरोसिस संक्रमण,गंभीर आघात या चोट,आनुवंशिक कारण,संयोजी ऊतकों का रोग आदि मस्तिष्क धमनी विस्फार के मुख्य लक्षण हैं। 

उपचार :- मस्तिष्क धमनी विस्फार का उपचार अत्यंत कठिन है;किन्तु धमनी विस्फार न हो इसके लिए निम्नलिखित उपचारों को अपनाकर बचा जा सकता है।

(1) अश्वगंधा पाउडर का सेवन सुबह-शाम ताजे जल या दूध के साथ करके भी मस्तिष्क धमनी विस्फार से बच सकते हैं।

(2) उच्च रक्तचाप को नियंत्रित कर हम मस्तिष्क धमनी विस्फार से बच सकते हैं ।इसके लिए प्रतिदिन सुबह-शाम नोनी जूस की मात्रा 30 एम् एल कांच या चीनी मिटटी के पात्र में डालकर और उतने ही पानी मिलाकर सेवन करने से उच्च रक्तचाप को रोका जा सकता है ।

(3) धूम्रपान न करके भी हम मस्तिष्क धमनी विस्फार से बच सकते हैं।

(4) ड्रग्स का सेवन नहीं करके हम मस्तिष्क धमनी विस्फार से बच सकते हैं ।

(5) ब्राह्मी चूर्ण का सेवन सुबह-शाम करने से भी मस्तिष्क धमनी विस्फार से बचा जा सकता है।

(6) सहजन की जड़ का काढ़ा सुबह-शाम बनाकर पीने से मस्तिष्क धमनी विस्फार से बचा जा सकता है।

(7) वाहन चलाते समय हेलमेट पहनकर सर को चोट से बचा कर भी हम मस्तिष्क धमनी विस्फार से बच सकते हैं ।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग