cold and cough disease

सर्दी जुकाम रोग :-सर्दी जुकाम श्वसन तंत्र का एक आम विकार है,जो नासिका को प्रभावित करता है।यह मनुष्यों में बहुत आसानी से फैलने वाला एक संक्रामक रोग है,जो राइनोवायरस के कारण होता है।वैसे तो कुल मिलाकर दो सौ से अधिक वायरस जुकाम से सम्बंधित माने गए है;किन्तु राइनोवायरस सामान्य जुकाम के कारक हैं,जो आरएनए युक्त वायरस होता है और यह पाइकोर्नावाईराइड परिवार से सम्बंधित है।इसके अतिरिक्त कोरोनावायरस,रेस्पिरेटरी सिनसिशल वायरस,इन्फ्लुएंजा और पैरेंफ्लुएंजा अन्य ऐसे वायरस है जिनकी वजह से सर्दी जुकाम हो सकता है।सर्दी- जुकाम का लक्षण आमतौर पर सात दिन से दश दिन के भीतर समाप्त हो जाता है ;किन्तु कुछ लक्षण तीन सफ्ताह तक भी रह सकते है।जब मानव शरीर में इनका संक्रमण होता है तब हमारी प्रतिरक्षा की प्रणाली की प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप सर्दी -जुकाम के लक्षण प्रकट होते हैं।फिर संक्रमित व्यक्ति के छींकने,खांसने से वायरस छोटी-छोटी बूंदों के द्वारा,अन्य व्यक्तियों में साँस के द्वारा और मुंह के द्वारा या संक्रमित नासिका के म्यूकस के संपर्क में आने से फैलता है।साथ ही हाथों से नाक एवं मुंह छूकर हाथ मिलाने से,एक दूसरे के पास बैठने से भी सर्दी- जुकाम का संक्रमण होता है।

लक्षण:-नाक का बहना,छींकें आना,नासिका मार्ग में अवरोध होना,गले की खराश,माँसपेशोयों का दर्द,थकन का अनुभव,सर में दर्द,भूख का कम होना,खांसी,कफ,बुखार आना,आँखों में पानी आना,आँखें लाल होना,सूंघने में परेशानी होना आदि सर्दी- जुकाम के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- वायरस का संक्रमण,सर्दी,ठण्ड,और बरसात का मौसम होना,संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहना,प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना,मानव का शरीर संवेदनशील होना आदि सर्दी- जुकाम के मुख्य कारण कारण हैं।

उपचार :- (1) अदरक का रस और शहद 5-5 ग्राम की मात्रा मिलाकर सेवन करने से सर्दी -जुकाम की बीमारी का नाश हो जाता है ।

              (२) काली मिर्च,सोंठ और छोटी पीपल समान भाग लेकर कूट पीस कर उसमें चौगुना गुड़ मिलाकर बड़ी मटर के समान गोली 

                    बनाकर दो -तीन गोलियां गरम जल के साथ सेवन करने से सर्दी- जुकाम नष्ट हो जाता है । 

              (3) हल्दी 5 ग्राम,काली मिर्च 1 ग्राम और थोड़ा सा कला नमक आधा लीटर जल में उबालें और आध रह जाने पर छानकर गरम - 

                   गरम पीने से सर्दी- जुकाम नष्ट हो जाता है ।    

              (4) कद्दू के बीज,पोस्ट दाना,अजवाइन,कत्था और जावित्री समान भाग लेकर अदरक के रस में घोंट कर चने के बराबर गोली 

                   बनाकर एक- दो गोली चूसने से सर्दी -जुकाम की बीमारी नष्ट हो जाती है।

             (5) दही में सफ़ेद बूरा मिलाकर प्रातः काल पीने से जुकाम ठीक हो जाता है ।

             (6) अनार के फल का रस,दूब का रस और गुलाब जल मिलाकर नाक को तर रखने से भी सर्दी -जुकाम का नाश हो जाता है ।

             (7) दालचीनी,तेजपात,इलायची,नागकेशर,बच,बायबिडंग,हींग और कला जीरा समान भाग लेकर चूर्ण बनाकर उसे कपडे की 

                  पोटली में रख कर सूंघने से सर्दी -जुकाम ठीक हो जाता है ।

 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग