kidney failure disease

गुर्दा फैल्योर रोग :- गुर्दा या किडनी फैल्योर एक अत्यंत घातक रोग है,जिसमें किडनी या गुर्दा अपना कार्य सामान्य रूप से नहीं कर पाता है।एक ऐसी अवस्था जिसमें गुर्दों की अपशिष्ट पदार्थों को निकालने और द्रवों को संतुलित करने की क्षमता में कमी आ जाती है। वास्तव में किडनी का मुख्य कार्य खून का शुद्धीकरण करना है।जब भलीभांति रूप से कार्य नहीं कर पाता है तब शरीर से विजातीय तत्त्व नहीं निकल पाता है और खून में क्रिएटिन एवं यूरिया की मात्रा बढ़ जाती है।रक्त की जाँच में गुर्दा के ख़राब होने का संकेत नहीं मिलता है; किन्तु जब गुर्दा 50 प्रतिशत से अधिक ख़राब हो जाता है,तब रक्त में क्रिएटिन एवं यूरिया की मात्रा परिलक्षित होती है।आधुनिक चिकित्सा पद्धति में गुर्दा फैल्योर की कोई भी औषधि नहीं है ;किन्तु आयुर्वेद में ठीक किया जा सकता है।

गुर्दा या किडनी फैल्योर की कई अवस्थाएं होतीं हैं ---(1) क्रोनिक किडनी रोग :- इसमें लम्बे समय से चल रहा गुर्दा रोग,जिसमें कार्य करना बंद कर देता है।

(2) एक्यूट किडनी इंजरी :- ऐसी स्थिति,जिसमें गुर्दे अचानक रक्त से बेकार एवं हानिकारक तत्त्वों को छानना बंद कर देते हैं।

(3) नेफ्रोटिक सिंड्रोम :- यह एक आम किडनी की बीमारी हैं,जो लम्बे समय तक चलने वाला होता हैं ।

लक्षण :- उलटी होना,भूख में कमी,थकावट,कमजोरी,अनिद्रा,पेशाब कम होना,हिचकी आना,मांसपेशियों में खिंचाव,पैरों एवं टखने में सूजन,लगातार खुजली होना,दिमाग ठीक से काम न करना,सीने में दर्द होना,उच्च रक्तचाप अनियंत्रित होना आदि गुर्दा फैल्योर के प्रमुख लक्षण हैं ।

कार :- ऑटो इम्यून रोग के कारण,कैंसर,मधुमेह,दवा का कुप्रभाव,आनुवंशिक कारण,कोलेस्ट्रॉल का बढ़ जाना,नेफ्रॉन (छनन यूनिट ) में सूजन,गर्भावस्था,डिहाइड्रेशन,किडनी में संक्रमण,आघात,शरीर में पानी की कमी,पेशाब का वेग रोकना आदि गुर्दा फैल्योर के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) पुनर्नवा पौधे के रस का प्रतिदिन सुबह -शाम सेवन करने से किडनी फैल्योर ठीक हो जाता हैं और सुचारु रूप से कार्य करने 

                    लगता हैं।

              (2) गिलोय स्वरस एवं गिलोय सत्व के प्रतिदिन सेवन करने से किडनी फैल्योर ठीक हो जाता हैं।

              (3) एलोवेरा जूस के प्रतिदिन सेवन से भी किडनी फैल्योर ठीक हो जाता हैं।

              (4) ज्वारे एवं गिलोय स्वरस मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से किडनी फैल्योर ठीक हो जाता हैं।

              (5) मौसमी,संतरा,किन्नू ,कीवी,खरबूजा,आंवला एवं पपीते के प्रतिदिन सेवन करने से किडनी फैल्योर ठीक हो जाता हैं।

              (6) गाजर ,तुरई ,टिंडा ,ककड़ी ,अंगूर ,तरबूज ,अनन्नास ,नारियल पानी व सेव के रस के प्रतिदिन सेवन करने से किडनी फैल्योर 

                    ठीक हो जाता हैं ।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग