menopause

रजोनिवृत्ति  :- रजोनिवृत्ति महिलाओं के जीवन की वह अवस्था है ,जब एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का स्तर शरीर में काम हो जाता है।ज्यों-ज्यों हार्मोन का स्तर काम होता जाता है मासिक धर्म काम होते जाते हैं और अंततोगत्वा मासिक धर्म बंद हो जाता है।परिणामस्वरूप महिलाएं शरीर व व्यवहार में बहुत अधिक बदलाव महसूस करती हैं ।रजोनिवृत्ति एक प्राकृतिक प्रक्रिया है ,जो प्रत्येक महिलाओं के जीवन में एक बार अवश्य आता है और उनके जीवन में उथल-पुथल मचा देता है ।

लक्षण :- गर्मी लगना,पसीना आना,उत्तेजित होना,नींद न आना,मानसिक स्थिति में उतार-चढ़ाव,सिरदर्द,योनि में रूखापन,यौनेच्छा में 

            कमी,सम्भोग के दौरान दर्द,त्वचा व बालों में रूखापन आना,वजन बढ़ना,मूत्रमार्ग में संक्रमण,पेशाब में वृद्धि,जोड़ों में दर्द,बालों का 

            गिरना,स्मरण शक्ति कमजोर हो जाना आदि रजोनिवृत्ति के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- हार्मोन्स एस्ट्रोजेन एवं प्रोजेस्ट्रोन का काम हो जाना,अंडाशय के स्वास्थ्य में कमजोरी,श्रोणि चोटें,अंडाशय के शल्य क्रिया द्वारा हटाया 

             जाना आदि रजोनिवृत्ति के मुख्य कारण हैं ।

जटिलताएं :- योनि के अस्तर का पतला हो जाना,दर्दनाक सम्भोग,मूत्र की अधिकता,ह्रदय रोग की संभावना,चयापचय में कमी,हड्डी कमजोर हो 

                  जाना,मोतियाबिंद,मनोदशा में परिवर्तन आदि आ जाना ।

उपचार :- (1) कैल्सियम आधारित खाद्य पदार्थों का प्रयोग अधिक मात्रा में करने से रजोनिवृत्ति में बहुत राहत प्रदान करती हैं ।

              (2) अनिद्रा के लिए व्यायाम -कसरत पर ज्यादा जोर देना ताकि थकान हो ताकि नींद आ सके या नींद की गोली का प्रयोग कर भी 

                   आराम से नींद आ सके ।

              (3) रजोनिवृत्ति के प्रभाव को कम करने के लिए नियमित व्यायाम करने की आदतों को डालने से इसके प्रभाव को कम किया जा 

                    सकता है ।

              (4) रजोनिवृत्ति के प्रभाव को कम करने के लिए पूरक आहार जैसे विटामिन डी,मैग्नेशियम,अलसी सोया मेलाटोनिन,विटामिन ई 

                   आदि से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन ।

              (5) नॉन हार्मोनल वजाइनल मॉइश्चराइजर और लुब्रिकेंट का उपयोग द्वारा भी इससे होने वाले दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है।

              (6) रजोनिवृत्ति के प्रभाव को कम करने के लिए त्वचा की देखभाल से भी इससे उत्पन्न समस्या से मुक्ति प् सकते हैं ।

              (7) अच्छी नींद लेकर भी रजोनिवृत्ति से होने वाली समस्या से बचा जा सकता है ।

              (8) रजोनिवृत्ति के प्रभाव को कम करने के दौरान धूम्रपान एवं शराब के सेवन न कर  इसके दुष्प्रभाव को रोका जा सकता  है। 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग