premature ejaculation

शीघ्रपतन:-आज मनुष्य प्रदूषित वातावरण में शुद्ध हवा,पानी,खाद्य पदार्थ के बिना स्वस्थ नहीं है।फलस्वरूप वह अपने रोजमर्रा के प्रत्येक कार्यों को बखूबी नहीं कर पा रहा है।साथ ही आज प्रदूषित दृश्य -श्रव्य के साधनों (सिनेमा,अश्लील पत्र -पत्रिकाएं आदि)के कारण युवा अथवा प्रौढ़ आयु के विवाहित पुरुष यौन शक्ति में कमी का अनुभव करते हैं,स्तम्भन शक्ति न रखते हैं,यौनांग में शिथिलता का अनुभव करते हैं और सम्भोग या रति क्रिया में चरम सुख प्राप्त करने से वंचित रह जाते हैं ,नतीजन वह तनाव,कुंठाग्रस्त जीवन जीने के लिए बाध्य है।इन समस्याओं से मुक्ति हेतु मैंने एक प्रयास किया है, उम्मीद है पाठकजन लाभान्वित होंगे और अपना वैवाहिक जीवन को आनंदप्रद बनाएंगे।.                                         लक्षण :-सम्भोग करते समय वीर्य का शीघ्र स्खलन (गिर जाना)हो जाना ही शीघ्रपतन कहलाता है।शीघ्रपतन की सबसे ख़राब स्थिति यह होती है कि सम्भोग क्रिया शुरू होने से पहले ही वीर्यपात हो जाना। ऐसे में मनुष्य असंतुष्टि,ग्लानि,हीन-भावना,नकारात्मक विचारों से ग्रसित हो जाता है एवं अपना दाम्पत्य जीवन को टूटने के कगार पर ला देता है,जिससे जीवन-साथी के संबंधों में तनाव आना मुमकिन है।

उपचार:-(1 )दूध और पानी के साथ तुख्मलंगा की खीर बनाकर खाने से वीर्य का स्तम्भन होता है और शक्ति बढ़ती है।यह अचूक एवं अनुभूत है।

             (2 )अकरकराहा,सोंठ,कंकोल,केशर,पीपर,जायफल ,लौंग और चन्दन सफ़ेद चार -चार तोला बारीक कूट पीस कपड़छान कर चूर्ण बनाकर और सबके बराबर शक्कर मिलाकर उसमें एक तोला चोखी अफीम  मिला दें।चूर्ण को एक मास शहद के साथ चाटने से वीर्य का स्तम्भन करता है और स्त्री -पुरुष दोनों का अद्भुत आनंद आता है।यह अनुभूत एवं अचूक औषधि है और 100 प्रतिशत फल देने वाला है।

            (3)तुलसी के बीज को १०० ग्राम की मात्रा में लेकर उसे बारीक कूट पीस कपड़छान कर रख लें और एक चम्मच रात को सोते समय गुनगुने दूध के साथ पंद्रह दिनों तक लेने से शीघ्रपतन की समस्या शतप्रतिशत दूर हो जाएगी इसमें कोई संदेह नहीं। 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग