ulcerative colitis

 आँतों में सूजन- आज भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों की दिनचर्या एवं जीवन शैली में जितना बदलाव आया है,मनुष्य उतना ही छोटी -बड़ी बीमारियों से परेशान हो रहे हैं।लोगों का खान-पान एवं प्रदूषित जहरीला वातावरण,जो हमारे जीवन की सभी गतिविधियों को प्रभावित कर गंभीर समस्या उत्पन्न कर रही है।बीमारी की इसी कड़ी में आंत में सूजन पाचन तंत्र की एक गंभीर समस्या है।आंत में दीर्घकालिक सूजन अल्सर की बीमारी का रूप धारण कर लेती है,जो मनुष्य के लिए जानलेवा साबित होती है।यह बड़ी आंत और मलाशय की अंदरूनी सतह को प्रभवित करती है।आधुनिक चिकित्सा पद्धति में में इसका कोई निश्चित उपचार नहीं है;किन्तु आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में इसका अचूक एवं कारगर उपाय है,जिसकी सहायता से आंत की सूजन की बीमारी से मुक्ति पाया जा सकता है।

लक्षण:- पेट में ऐंठन व दर्द,खुनी दस्त,वजन काम हो जाना,थकान महसूस होना,पेट में बायीं तरफ दर्द होना,बुखार आना,खाने की अरुचि,तनाव,गुदा में दर्द,बार-बार मल त्याग करने की इच्छा,बच्चों के शरीर में वृद्धि न होना आदि आंत में सूजन के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण:- आनुवांशिक कारण,प्रतिरक्षा प्रणाली की खराबी,प्रदूषित खाद्य पदार्थों का सेवन,बैक्टीरिया का संक्रमण,मांसपेशी में चोट,लम्बे समय तक खड़े रहना,अधिक नमक खाना आदि आंत में सूजन के प्रमुख कारण हैं।

उपचार:- (1) लौंग चार -पांच लेकर एक कप पानी में डालकर उबालें और छानकर पिने से आंत की सूजन दूर हो जाती है।

             (२) लहसुन की तीन- चार कलियाँ चबाकर खाने और गरम पानी पीने से आंत की सूजन समाप्त हो जाती है।

             (3) जौ को पानी में उबालें और छानकर उसमें आधा चम्मच नींबू का रस मिलकर पिने से आंत का सूजन दूर हो जाती है।

             (4)नीम की नई-नई पत्तियों को चबाकर खाने से आंत की सूजन दूर होती है।

             (5) एक कप सफ़ेद चावल आधा लीटर पानी में उबालें और छानकर उसमें एक चम्मच शहद और दालचीनी पाउडर मिलकर पिने से 

                  आंत की सूजन दूर हो जाती है।

             (6) नींबू पानी का सेवन,ग्रीन टी का सेवनऔर पिपरमिंट का सेवन भी आंत की सूजन को समाप्त कर देती है।

             (7) लहसुन की कलियों को छील कर शहद में डुबो दें और प्रतिदिन तीन -चार कलियाँ सुबह खाने से आंत की सूजन समाप्त हो जाती 

                   है।यह अचूक एवं निरापद है।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग