small breast

स्तनों का आकार छोटा होना :- स्त्रियों के आकर्षक एवं सुन्दर व्यक्तित्त्व के लिए स्तनों का पुष्ट आकार एवं सुडौल होना अत्यंत आवश्यक हैं;किन्तु स्तनों का आकार छोटा होना अत्यंत चिंताजनक स्थिति है।स्त्रियां हमेशा अपने स्तनों को पुष्ट,सुडौल एवं आकर्षक बनाने के लिए प्रयत्नशील रहती हैं।उम्र के अनुसार स्तनों का ठीक तरह से विकसित न होना उन्हें सामाजिक एवं मानसिक रूप से तनावग्रस्त बना देती हैं और अपने समाज एवं परिवेश में शर्म एवं हीन भावना से ग्रसित बना देती है।इसका प्रभाव उनके जीवन में स्पष्ट दृष्टिगोचर होता है।

लक्षण :- स्तनों का आकार छोटा होना,अविकसित स्तनों का होना,शारीरिक दृष्टि से कमजोर,वजन कम होना आदि स्तनों के आकार का छोटा होने के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- आनुवंशिक कारण,पोषक तत्त्वों का उपयोग नहीं करना,शारीरिक कमजोरी,एस्ट्रोजेन हार्मोन्स की कमी,अत्यधिक मानसिक तनाव,थाइराइड की समस्या,शरीर में वसा की कमी आदि स्तनों का आकार छोटा होने के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) मेथी के तेल से प्रतिदिन स्तनों की मालिश करने से स्तनों का छोटा आकार बढ़ कर पुष्ट एवं सुडौल हो जाता है।

              (2) एक चम्मच सोंफ,दो कप पानी में उबालें और उसमें एक या दो चम्मच शहद मिलकर सुबह - शाम पीने से स्तनों के आकार में 

                    वृद्धि होने लगती है और पुष्ट एवं सुडौल हो जाता है।

               (3) दूब घास को सुखाकर रख लें और दो चम्मच सूखा हुआ दूब दो कप पानी में उबालें और शहद मिलकर दिन में दो - तीन बार 

                    सेवन करने से स्तनों का आकार पुष्ट एवं सुडौल हो जाता है।

               (4) जैतून के तेल की नियमित सुबह - शाम मालिश से स्तनों का आकार बढ़ जाता है और पुष्ट एवं सुडौल हो जाता है।

               (5) अश्वगंधा पाउडर का सेवन प्रतिदिन सुबह - शाम दूध के साथ करने से स्तनों का आकार बढ़ जाता है\

               (6) अलसी के प्रतिदिन सेवन से भी स्तनों का आकार बढ़ जाता है।

               (7) वॉल पुश अप व्यायाम द्वारा भी स्तनों के आकार में वृद्धि हो जाती है।

               (8) पोषक तत्त्वों युक्त आहारों के सेवन जैसे - पालक,गाजर,सी फ़ूड,नट्स - काजू,पिस्ता,अखरोट आदि के सेवन से स्तन पुष्ट और 

                    सुडौल हो जाते हैं।

                (9) बादाम तेल की नियमित मालिश द्वारा भी स्तनों का आकार पुष्ट एवं सुडौल हो जाता हैं।

                (10) महानारायण तेल की मालिश से भी स्तन पुष्ट एवं सुडौल हो जातें हैं।

                (11) अश्वगंधा एवं शतावरी लेकर चूर्ण बनाकर सेवन करें और ऊपर से धारोष्ण लेने से स्तनों का आकार बढ़कर पुष्ट एवं सुडौल हो 

                       जाता हैं।

                       




               


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग