vomiting disease

उल्टी या वमन रोग :- उल्टी या वमन रोग अत्यंत ही कष्टकारी एवं मन को विचलित करने वाला रोग है।आमाशय के अंदर के पदार्थों का बाहर निकलने को उल्टी या वमन कहते हैं।यह कई कारणों से हो सकते हैं - जैसे पेट में गैस बन जाने,जहरीले पदार्थ के सेवन,मस्तिष्क ट्यूमर,पेट में कृमि होने,आमाशय में संक्रमण आदि ।वमन होने पर शरीर में जल की कमी हो जाने पर रोगी को शिराओं के द्वारा जलीय घोल देना अनिवार्य हो जाता है।नमक या नेचुरल इलेक्ट्रोलाइट युक्त पदार्थों का सेवन द्वारा वमन के कारन शरीर में जल की कमी को पूरा किया जाता है ।

लक्षण :- जी मिचलाना,पेट में गुड़गुड़ाहट,बेचैनी,सिरदर्द,पेट दर्द,बुखार,चक्कर आना,किसी काम में मन न लगना,आलस,थकान आदि उल्टी 

            या वमन के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- अजीर्ण,कृमि,जरायु के विकार,यकृत विकार,वायु विकार,जहर का दुष्प्रभाव,मस्तिष्क का ट्यूमर,वैक्टीरिया का संक्रमण,प्रदूषित खाद्य 

             पदार्थ का सेवन,गर्भावस्था आदि उल्टी या वमन के मुख्य कारण हैं ।

उपचार :- (1) अडूसा क्वाथ 10  ग्राम, शहद 10  ग्राम,पिपरमेंट 100  ग्राम मिलकर दिन में तीन बार सेवन करने से उल्टी या वमन शीघ्र आराम 

                    हो जाता है ।

              (2) पिपरमेंट 5 ग्राम,अजवाइन सत 10 ग्राम और कपूर 20 ग्राम लेकर एक कांच की शीशी में डालकर रख दें।कुछ समय में गल 

                   जाने  पर अमृतधारा तैयार हो जाएगी ।इसकी 10 बून्द बताशे में डालकर खाने से उल्टी या वमन शीघ्र दूर हो जाती है ।

              (3) लगे हुए पान में पिपरमेंट रख कर खाने से भी वमन की समस्या दूर हो जाती है ।

              (4) गन्ने के रस में थोड़ा सा वर्फ एवं आधा चम्मच नीम्बू का रस मिलकर पीने से उल्टी या वमन रुक जाती है ।

              (5) पानी में पुदीना अर्क की चार-पांच बुँदे और जरा सा कपूर डालकर पीने से उल्टी या वमन रुक जाती है ।

              (6) एक चुटकी हींग और तीन-चार लौंग को पीसकर आधे कप पानी में घोलकर पीने से उल्टी या वमन रुक जाती है ।

              (7) एक कप अनार के रस में 2 ग्राम इलायची का चूर्ण मिलकर पीने से उल्टी या वमन रुक जाती है।

              (8) 10 ग्राम सोंफ को आधा लीटर पानी में उबालें और छानकर कांच की बोतल में रख लें और पीते समय इसमें थोड़ी सी खंड मिला 

                    कर प्रतिदिन पीने से उल्टी या वमन रुक जाती है ।

              (9) प्याज का रस और नीम्बू का रस एक -एक चम्मच और आधा चम्मच पुदीने का रस मिलाकर पीने से उल्टी या वमन बहुत जल्द 

                   आराम हो जाता है ।

              (10) हरा धनिया और पुदीना दोनों की चटनी बनाकर उसमें भुने हुए जीरा का चूर्ण 4 ग्राम,2 ग्राम कला नमक और 1 ग्राम काली 

                     मिर्च चूर्ण मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से उल्टी या वमन ठीक हो जाता है । 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग