anorexia nervosa disease

क्षुधा अभाव रोग :- क्षुधा अभाव रोग एक गंभीर मानसिक रोग है,जो एक प्रकार का आहार सम्बन्धी विकार है।इस रोग में व्यक्ति अपने आपको स्वस्थ शारीरिक वजन बनाये रखने से इंकार एवं मोटा या स्थूलकाय हो जाने के डर से ग्रसित रहता है।ऐसा पूर्वाग्रहों से ग्रसित अपनी विकृत मानसिकता के कारण होता है।फलस्वरूप व्यक्ति अपने शरीर,भोजन एवं खाने - पीने की आदतों के बारे में सोचने - समझने की क्षमता में परिवर्तन ले आते हैं।क्षुधा अभाव ( एनोरेक्सिया नर्वोज़ा ) शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम 1873 ईस्वी में महारानी विक्टोरिया के निजी चिकित्सकों में से एक सर विलियम गल द्वारा किया गया था,जिसका अर्थ है भोजन करने की इच्छा का अभाव।वास्तव में क्षुधा अभाव रोग एक मनोवैज्ञानिक स्थिति के कारण पीड़ित व्यक्ति अपने स्वास्थ्य के प्रति कुछ ज्यादा ही जागरूक हो जाता है। यह अति जागरूकता के कारण वह अपना हित की जगह अहित करना शुरू कर देता है,जो उस व्यक्ति के लिए अत्यंत घातक सिद्ध होता है।

लक्षण :- वजन बढ़ जाने के डर से भयभीत रहना,शीघ्रता से नाटकीय रूप से वजन घटना,भोजन पकने के विभिन्न तरीकों में संलग्न रहना,गले में उँगली डालकर उल्टी करना,दुबला एवं कम वजन होने के बावजूद कुछ न खाना,मोटे हो जाने के डर से अति जागरूकता, लगातार व्यायाम करना,दूसरों के दुर्बल बताने पर भी स्थूलकाय अपने आपको समझना,मानसिक अवसाद,सुस्त रहना,ढीले वस्त्र पहनना मोटा दिखने के लिए,भूख घटाने वाली औषधियों का सेवन करना,चेहरे पर भ्रूण रोम का उगना,दन्त खोखला होकर गिर जाना,जोड़ों में सूजन,कुपोषणजन्य समस्याएं आदि क्षुधा अभाव रोग के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- नाड़ी के अंतःस्रावी तंत्र में परिवर्तन होने,उपवास के कारण वजन की हानि होने के कारण,परजीवी संक्रमण,दवाओं का कुप्रभाव,शल्य क्रिया के कारण वजन हानि के कारण,प्रसूति समस्याएं,रक्ताल्पता,मधुमेह,आनुवंशिक कारण,मस्तिष्कीय विकार,जीन सम्बन्धी विकार,लेप्टिन एवं घ्रेलिन हार्मोन्स के कारण,जस्ते की कमी,मस्तिष्क में रक्त का कम प्रवाह होना,पोषण की कमी,पर्यावरणीय कारण,स्वपरायणता आदि क्षुधा अभाव के मुख्य कारण हैं। 

उपचार :- (1) खजूर की चटनी बनाकर और उसमें नीम्बू का रस मिलाकर प्रतिदिन खाली पेट खाने से क्षुधा अभाव रोग दूर हो जाता है।

(2) इलायची के दाने को एक गिलास पानी में उबालकर रखें और ठंडा कर प्रतिदिन पीने से क्षुधा अभाव रोग ठीक हो जाता है।

(3) एक कप टमाटर का जूस,एक कप गाजर का रस और एक चम्मच अदरक का रस मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से क्षुधा अभाव रोग दूर हो जाता है।

(4) इमली को पानी में मसलकर छान लें और उसमें एक चुटकी सफ़ेद नमक एवं एक चुटकी काली मिर्च का पाउडर डालकर प्रतिदिन पीने से क्षुधा अभाव रोग दूर हो जाता है।

(5) पुदीने की चटनी एवं शहद का मिश्रण क्षुधा अभाव रोग का नाश कर देता है।

(6) एक गिलास जल में थोड़ा सा काला नमक, सेंधा नमक और एक चम्मच जीरा पिसा हुआ मिलाकर पीने से क्षुधा अभाव रोग दूर हो जाता है। 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग