childhood obesity disease

बाल्यकाल स्थूलता रोग :- बच्चों में मोटापा आज के वर्तमान परिवेश में एक समस्या के रूप अपना पाँव पसार रही है,क्योंकि बच्चों में फ़ास्ट फ़ूड एवं तले भुने खाद्य पदार्थों के सेवन में ज्यादा रूचि हो गई है।आज हरेक जगह चाउमीन,मोमोज,रोल आदि खाद्य पदार्थों का प्रचलन इतना अधिक होने लगा है कि आगामी भविष्य में इसका परिणाम अत्यंत घातक होने वाला है।इसी क्रम में बच्चों में मोटापा दिन प्रतिदिन अपना प्रभाव दिखाने लगा है,सार्वजनिक स्वास्थ्य की दृष्टि से एक गंभीर एवं चिंतनीय विषय है।बाल्यकाल स्थूलता की वजह से बच्चों में अत्यधिक वसा का जमा होना मधुमेह,उच्च रक्तचाप,हृदय रोग,अधिक नींद का आना,युवावस्था का जल्दी आगमन,लड़कियों में मासिक धर्म का जल्दी आना आदि जैसी समस्याओं से ग्रसित होना शामिल है।

लक्षण :- अधिक पसीना आना,बार बार साँस फूलना,थकान अनुभव करना,जोड़ों में दर्द की समस्या,लड़कियों में जल्दी मासिक धर्म का होना,कब्ज,शरीर पर बालों का आना,ज्यादा पेशाब आना आदि बाल्यकाल स्थूलता रोग के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- आनुवांशिक,कैलोरी युक्त खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन,फ़ास्ट फ़ूड का अधिक प्रयोग,कोल्ड ड्रिंक,जूस,तली हुई चीजें,चॉकलेट,आइसक्रीम का ज्यादा उपयोग,ज्यादा सोना,अवसाद ग्रस्त होना,आदि बाल्यकाल स्थूलता रोग के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) गिलोय,नागरमोथा,त्रिफला,का सेवन शहद के साथ करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(2) आंवला चूर्ण शुंठी के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(3) अश्वगंधा के एक पत्ते को मसल कर गोली बनाकर गुनगुने जल के साथ सुबह खाली पेट सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग ठीक हो जाता है।

(4) कम प्रोटीन एवं कम कैलोरी युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(5) छोटी हरड़ चूर्ण दो से पांच ग्राम के प्रतिदिन सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(6) फ़ास्ट फ़ूड के प्रयोग को कम कर या पूरी तरह से बंद करने से भी बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(7) लौकी के जूस का सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(8) रात को त्रिफला चूर्ण गुनगुने जल के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(9) अनानास के सेवन से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(10) मिश्री,मोटी सोंफ,धनिया चूर्ण,गुनगुने जल के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(11) भुना जीरा,काला नमक और अजवाइन कूट पीस कर छाछ के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(12) एप्पल का सिरका जूस या जल के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(13) 50 ग्राम पिप्पली चूर्ण और 30 ग्राम सेंधा नमक के साथ मिलाकर सुबह खाली पेट छाछ के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(14) आधा ग्राम पिप्पली चूर्ण को शहद के साथ सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।

(15) मांसाहार भोज्य पदार्थों के न सेवन करने से बाल्य काल स्थूलता रोग दूर हो जाता है।


obesity disease

मोटापा रोग:- मोटापा रोग वर्तमान समय में एक गंभीर समस्या का रुप ले चुका है।असंतुलित आहार,जंक फ़ूड का अत्यधिक प्रयोग,हार्मोन की समस्या एवं शारीरिक श्रम के अभाव के कारण मोटापा दिन-प्रतिदिन अपना पाँव पसार रही है।जब ज्यादा शारीरिक वसा शरीर पर जमा हो जाता है तो यह मोटापा की स्थिति है,जो कई गंभीर रोगों का जैसे -ह्रदय रोग,मधुमेह,श्वास की समस्या,कैंसर एवं अस्थि की कमजोरीआदि रोगों काआश्रय स्थल बन जाता है 

लक्षण:- पसीना अधिक आना,सांस फूलना,सोते समय खर्राटे लेना,शारीरिक श्रम न कर पाना,बहुत जल्दी थकान का अनुभव करना,जोड़ों में दर्द होना,अकेला महसूस करना,हायपर टेंशन,कोलेस्ट्रॉल,अस्थमा,बाँझपन आदि मोटापा के प्रमुख लक्षण हैं। 

कारण:- (1) अधिक चर्बीयुक्त आहार का सेवन (2) व्यायाम काम करना (3) स्थिर जीवन-यापन व्यतीत करना (4) मानसिक तनाव एवं असामान्य व्यवहार करना (5) असंतुलित भोजन करना (6) हाइपोथाइरॉडिज्म के कारण (7) ऊर्जा के सेवन एवं ऊर्जा के खपत के बीच असंतुलन होना (8) जंक फ़ूड का ज्यादा उपयोग करना (9) अनिद्रा (10) अनुवांशिक कारण (11) गर्भावस्था (12) हार्मोन का असंतुलन (13) बीमारियां (14) दवाओं का बुरा प्रभाव ।

उपचार:- (1) एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच निम्बू का रस मिलाएं और तीन -चार लहसुन की कलियों को 

                  चबाते हुए पीने से कुछ ही दिनों में मोटापा कम होना शुरू हो जाता है।

             (2) जीरा एक चम्मच लेकर उसे दो कप पानी में उबालें और जब एक कप पानी शेष रह जाए तो छान 

                  कर पीने से मोटापा कुछ ही दिनों में कम होना शुरू हो जाता है।

             (3) लहसुन की कलियों को छील कर शहद में डुबों दें और प्रतिदिन तीन-चार कलियों को खाने से 

                   मोटापा दूर हो जाता है।

             (4) गुनगुने जल में दो चम्मच शहद एवं दो चम्मच निम्बू का रस मिलकर पीने से मोटापा कुछ ही दिनों में कम होना शुरू हो जाता है।

             (5) अदरक के टुकड़ों दो कप पानी में उबालें और उसमें एक चम्मच शहद एवं दो चम्मच निम्बू का रस मिलकर पीने से मोटापा का नाश हो जाता 

                   है।

 

 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग