mucormycosis disease

ब्लैक फंगस रोग : - ब्लैक फंगस एक अत्यंत खतरनाक एवं दुर्लभ किस्म का फंगल संक्रमण रोग है,जिसमें व्यक्ति वातावरण में मौजूद म्यूकॉर्मिसेट्स नामक सूक्ष्मजीवों की चपेट में आने से संक्रमित हो जाता है। वास्तव में ब्लैक फंगस संक्रमण कोरोना वायरस से संक्रमित होने से व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर यानि रोगों से लड़ने की शक्ति अत्यंत क्षीण पड़ जाती है। परिणामस्वरुप ब्लैक फंगस की चपेट में आ जाता है। विशेषकर जो कोरोना संक्रमित व्यक्ति किसी गंभीर बीमारी जैसे - मधुमेह,कैंसर,एड्स आदि से पीड़ित हो साथ ही आई सी यू एवं वेंटिलेटर सपोर्ट पर हों,उसे ब्लैक फंगस से संक्रमण का खतरा बहुत अधिक होता है। इसके अतिरिक्त कोरोना से गंभीर रूप से पीड़ित व्यक्ति जिसका ऑक्सीजन कन्संट्रेटर की सहायता से उपचार हो रहा हो,उसे कन्संट्रेटर में स्टेराइल जल देना पड़ता है,किन्तु अज्ञानतावश या जानकारी न होने की वजह से सामान्य जल का प्रयोग करते है। परिणामस्वरूप व्यक्ति फंगस से संक्रमित हो जाता है,जिसे ब्लैक फंगस रोग के नाम से जाना जाता है। कोरोना से संक्रमित होने पर दवाइयां व स्टेरॉयड का सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को अत्यंत दुर्बल बना देता है ,जो फंगस संक्रमण के खिलाफ लड़ने में सक्षम नहीं हो पाता। अंततः फंगस की चपेट में आने से मरीज अपनी जान से हाथ धो बैठता है। इसलिए ब्लैक फंगस संक्रमण को हल्क़े में नहीं लेना चाहिए और शीघ्रता पूर्वक चिकित्सक से परामर्श एवं उपचार करवाना चाहिए। 

लक्षण : - तीव्र बुखार,आँखों में लालिमा,आँखों में सूजन,आँख एवं नाक के नीचे सूजन,चेहरे पर सूजन,चेहरे का सुन्न हो जाना,पेट में दर्द,साँस लेने में परेशानी,मल में खून आना,नाक एवं मुँह से खून आना,उल्टी,तेज खांसी,जबड़े की हड्डी गल जाना,आँखों से कम दिखाई देना या धुंधलापन दिखाई देना,चेहरे के एक तरफ दर्द,दांत दर्द,गाल की हड्डी में दर्द,मुँह के अंदर सूजन आदि ब्लैक फंगस रोग के प्रमुख लक्षण हैं। 

कारण : - कोरोना रोग से पीड़ित होना,मधुमेह,कैंसर,अंग प्रत्यारोपण ,सफ़ेद रक्त कणों का कम होना,कुपोषण,सही समय पर इलाज न मिलना,स्टेरॉइड का सेवन,ड्रग्स का सेवन,एड्स,समय से पूर्व प्रसव,लम्बे समय तक आई सी यू में उपचार,एंटी फंगल उपचार कराना,दूषित जल का सेवन,मिट्टी एवं धूल के संपर्क में रहना,कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली,ऑक्सीजन कन्संट्रेटर में स्टेराइल जल का प्रयोग नहीं करना आदि ब्लैक फंगस रोग के मुख्य कारण हैं। 

उपचार : - (1) गिलोय एवं तुलसी के पत्ते का काढ़ा नियमित सुबह - शाम एवं सप्ताह में एक बार गिलोय,तुलसी,हल्दी कच्ची या पाउडर,अदरक,एक - दो लौंग का काढ़ा के सेवन से कोरोना के कारण रोग प्रतिरोधक शक्ति की वृद्धि कर ब्लैक फंगस को दूर करने में अत्यंत लाभदायक होता है। 

(2) आग पर फूली हुई फिटकरी,हल्दी एवं सेंधा नमक सबको मिलाकर गरारे या जबड़े की मालिश करने से ब्लैक फंगस के प्रभाव से होने वाले जबड़े,मुँह के अंदर की सूजन आदि दूर हो जाते हैं। 

(3) वातावरण में मौजूद धूलकणों एवं मिट्टी के सम्पर्क से दूर रह कर साथ ही मास्क लगाकर ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है। 

(4) कोरोना के संक्रमण के कारण रोगों से लड़ने की शक्ति के कम हो जाने की स्थिति में ब्लैक फंगस के संक्रमण से बचने के लिए इम्यून सिस्टम को मजबूत एवं शक्ति प्रदान करने वाले खाद्य पदार्थों के सेवन द्वारा भी ब्लैक फंगस के दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है। 

(5) आधा चम्मच हल्दी,एक चुटकी काली मिर्च चूर्ण,लवंग,पीपर एवं दालचीनी के सेवन से इम्युनिटी पावर के बढ़ने से ब्लैक फंगस से संक्रमित होने से बचा जा सकता है। 

(6) नियमित रूप से ताजे फल,सब्जियों के सेवन से भी ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है। 

(7) स्टेरॉइड एवं ऑक्सीजन सपोर्ट के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से स्वयं अपने आप सेवन नहीं करने से भी ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है। 

(8) ऑक्सीजन चैंबर में प्रयुक्त होने वाले जल को बदलते रहने एवं स्टेराइल जल के ही प्रयोग करने से ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है। 

(9) कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने के बाद मधुमेह के रोगी को अपने शुगर लेवल पर अत्यंत निगरानी रखकर भी ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है यानि शुगर को कंट्रोल में रखकर ब्लैक फंगस के संक्रमण से बचा जा सकता है। 

(10) अपने शरीर को हमेशा स्वच्छ एवं नमी युक्त मौसम और नमी वाले जगहों से बचा कर रखने से भी ब्लैक फंगस से बचा जा सकता है। 

योग,आसन एवं प्राणायाम : - अनुलोम - विलोम,कपालभाति,भस्त्रिका,भ्रामरी,ॐ का उच्चारण आदि। 

 


filariasis disease

फाइलेरिया या हाथी पांव रोग : - फाइलेरिया या हाथी पांव अत्यंत गंभीर रोग है ,जिसमें पैरों वृषण कोषोंतथा शरीर के अन्य भागों में सूजन हो जाती है। इस रोग में हाथों या पैरों में बहुत ज्यादा सूजन हो जाने से अत्यंत मोटा हो जाने के कारण ही हाथी पांव रोग के नाम से भी लोग पुकारते है। फाइलेरिया रोग बैंक्रोफ्टाई नामक कृमि से होता है,जिसका संचारण क्यूलेक्स मच्छरों के काटने से होता है। फाइलेरिया परजीवी द्वारा होने वाला एक संक्रामक उष्ण कटिबंधीय निमेटोड के द्वारा फैलने वाला रोग है ,जो लसिका ग्रंथि और नाड़ियों को प्रभावित करता है एवं शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को क्षतिग्रस्त करती है। वास्तव में फाइलेरिया या हाथी पांव रोग अत्यंत कष्ट एवं दर्द प्रदायक बीमारी है। 

प्रकार :- (1) लिम्फेटिक फाइलेरिया - यह लिम्फ ( लसिका )प्रणाली एवं लिम्फ नोड को प्रभावित करता है। 

(2) सब क्यूटेनियम फाइलेरिया - यह त्वचा के नीचे की परत को प्रभावित करता है। 

(3) सीरियस केविटी फाइलेरिया - यह पेट की सीरियस केविटी को प्रभावित करता है। 

लक्षण :- सिरदर्द,बुखार एवं गिल्टियाँ हो जाना,ठण्ड लगना,पैरों में सूजन होना,दर्द,त्वचा की परत एवं त्वचा की परत के नीचे ऊतकों का मोटा हो जाना,स्तन एवं जननांगी क्षेत्र का आकार सामान्य से बढ़ जाना,त्वचा पर लाल चकत्ते,पेट में दर्द,नसों का फूल जाना,जांघ में गिल्टी होना आदि फाइलेरिया या हाथी पांव के प्रमुख लक्षण हैं। 

कारण :-  बैंक्रोफ्टाई नामक कृमि, लिम्फेटिक फाइलेरिया संक्रमित मच्छर के काटने से,क्यूलेक्स,एडिस एवं एनोफिलिस के द्वारा संचारण आदि फाइलेरिया रोग के मुख्य कारण हैं। 

उपचार :- (1) लौंग की चाय पीने से फाइलेरिया परजीवी पनपने में रोकथाम करती है और रक्त से नष्ट कर देती है। 

(2) काळा अखरोट के तेल को एक कप गर्म पानी में तीन - चार बूंदें डालकर पीने से फाइलेरिया के जीवाणु नष्ट हो जाते हैं। 

(3) लहसुन,अनानास,मीठे आलू,शकरकंदी,गाजर एवं खुबानी आदि आहार में शामिल करने से फाइलेरिया के जीवाणुओं का नाश हो जाता है।

(4) आंवला के प्रतिदिन सेवन से फाइलेरिया रोग में बहुत फायदा होता है। 

(5) अश्वगंधा पाउडर के प्रतिदिन सेवन से फाइलेरिया रोग दूर हो जाता है। 

(6) ब्राह्मी को पीसकर फाइलेरिया से प्रभावित अंगों पर लेप करने से सूजन कम हो जाता है। 

(7) अदरक का पाउडर या सोंठ का प्रतिदिन गरम पानी के साथ सेवन करने से शरीर में मौजूद परजीवी का नाश हो जाता है। 

(8) शंखपुष्पी की जड़ को गरम पानी के साथ पीसकर प्रभावित अंगों पर लेप लगाने से सूजन समाप्त हो जाती है। 

(9) अश्वगंधा एवं शिलाजीत के सेवन से फाइलेरिया ठीक हो जाती है। 

(10) कुटज,विडंग,हरीतकी,गिलोय एवं मंजिष्ठा आदि के सेवन से भी फाइलेरिया रोग दूर हो जाता है। 

(11) कल्क के पत्तियों के पेस्ट फाइलेरिया प्रभावित स्थानों पर लगाने से फाइलेरिया रोग दूर हो जाता है। 

(12) धतूरा,एरंड,निर्गुन्डी,सहजन की छाल सफ़ेद पुनर्नवा सबको सरसों के के तेल में मिलाकर लगाने से भी फाइलेरिया में बहुत आराम मिलता है। 



 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  नसों या वेन्स के रोग

  एलर्जी रोग

  मुँह ,दांत के रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग