thinning of penis

लिंग का पतलापन :- युवाकाल में लिंग के आकार के प्रति चिंता एवं उत्सुकता लगभग हरेक व्यक्ति में होती है।हर व्यक्ति के लिंग की लम्बाई एवं मोटाई आदि में भिन्नता अवश्य होती है;किन्तु अप्राकृतिक यौन क्रिया,अत्यधिक हस्तमैथुन करने के कारण लिंग के स्नायु तंतुओं में फर्क आ जाता है और उसके आकार में परिवर्तन आ जाता है।शारीरिक कुपोषण के कारण भी लिंग का विकास समुचित रूप से नहीं हो पाता है और सामान्य आकार की तुलना में छोटा या पतला रह जाना ही लिंग का पतलापन कहा जाता है।वैसे तो यौन संतुष्टि,गर्भधारण तथा यौन क्षमता पर इसमें कोई प्रभाव नहीं पड़ता है ;क्योंकि स्त्री के योनि का ऊपरी एक तिहाई भाग ही यौन स्पर्श के प्रति संवेदनशील होता है और उत्तेजित अवस्था में यदि लिंग 2 सेंटीमीटर भी हो तो वह अपने साथी को पर्याप्त यौन आनंद प्रदान करा पाने में समर्थ होता है।इस सब के बावजूद भी मनुष्य स्वाभाविक रूप से लिंग के पतलेपन से ज्यादा ही चिंतित रहता है।वैसे आयुर्वेद में मालिश,लेप आदि के द्वारा लिंग के आकार में परिवर्तन लाया जा सकता है।

लक्षण :- लिंग का आकार सामान्य से छोटा एवं पतला होना,जन्म से ही पतला दिखना,उत्तेजित अवस्था में भी आकार पतला रहना आदि लिंग के पतलेपन के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- आनुवंशिक कारण,हार्मोन्स एण्ड्रोजन की असंवेदनशीलता,थायराइड हार्मोन,कुपोषण,अत्यधिक धूम्रपान एवं शराब का सेवन,अत्यधिक हस्तमैथुन,लिंग में आघात या चोट लगना आदि लिंग के पतलेपन के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) बंग भस्म पान के रस के साथ और समुद्र फल चूर्ण मिला शहद सहित लिंग पर लेप कर पट्टी बांधने से लिंग मोटा एवं दृढ़ हो 

                   जाता है।

(2) एक चम्मच में लहसुन की दो -तीन कलियों को छोटे-छोटे टुकड़े करके डाल दें और कुछ देर छोड़ दें और प्रतिदिन सुबह-शाम खाली पेट 

      खाने से लिंग का छोटापन एवं पतलापन दोनों दूर हो जाता है। 

(3) शतावर,असगंध,कूठ,जटामांसी और कटेहली के फल को चार गुने डुङ्ग में मिलाकर या तेल में पकाकर लेप करने से लिंग मोटा हो जाता 

      है।

(4) कूटकटेरी,असगंध,बच और शतावरी को तिल के तेल में जलाकर लिंग पर लेप करने से लिंग मोटा हो जाता है।

(5) सूखा जौ पीसकर तिल के तेल में जलाकर मालिश करने से लिंग मोटा हो जाता है।

(6) 15 ग्राम लौंग को 40 ग्राम तिल के तेल में जलाकर मालिश करने से भी लिंग मोटा हो जाता है।

(7) भुने हुए सुहागे को शहद के साथ पीसकर लिंग पर लेप करने से लिंग मोटा हो जाता है।

(8) बेल पत्र के रस में शहद मिलाकर लेप करने से लिंग मोटा हो जाता है।

(9) हींग को देशी घी में मिलाकर लिंग पर लगा दें और ऊपर से सूती कपड़ा बांध दें।ऐसा करने से कुछ ही दिनों में लिंग मोटा हो जाता है।

(10) असगंध चूर्ण को चमेली के तेल के साथ मिलाकर लिंग पर लेप करने से लिंग मोटा हो जाता है।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग