stomach worms

पेट के कीड़े :- पेट में कृमि होना एक आम समस्या है।आमतौर पर ये बीमारी छोटे बच्चों को ज्यादा होती है,किन्तु बड़े भी इससे अछूते नहीं रहते । मानव के दूषित खाद्य पदार्थों के सेवन से उनके उदर में कृमि हो जाता है।यह परजीवी नेमाटोड फायलम के संक्रमण के कारण होता है। यह संक्रमण हैलिमिंथियासिस जैसा संक्रमण होता है,जो परजीवी कीटाणु मानव शरीर में प्रवेश करके बाहर या ऊतकों से जुड़कर सारे पोषक तत्त्वों को चूसकर अपना पोषण करता है।नतीजन मनुष्य दुर्बल होकर त्वचा,मांसपेशियां,फेफड़ा या आंत की बीमारी से ग्रसित हो जाता है।

लक्षण :- पेट में दर्द,सोते हुए दाँत कटकटाना,नाक में खुजली होना,मल में सफ़ेद कीड़े आना,त्वचा में रूखापन,जीभ का रंग सफ़ेद होना,गालों पर धब्बे दिखना,आँखों का रंग लाल रहना,हल्का बुखार,मिचली आना,भोजन में अरुचि,शारीरिक कमजोरी,बदहजमी,भूख कम लगना,वजन कम होना,मुंह से बदबू आना,गुप्तांग में खुजली होना आदि पेट में कृमि होने के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- दूषित जल का सेवन करना,घाव में सड़न होने,जमीन पर गिरे हुए चीजों को खाने से,गंदे हाथों से खाना खाने,परिश्रम न करना,दही एवं संयोग विरुद्ध पदार्थ खाने,भूख न लगने पर खाना खाना,मक्खियों से दूषित भोजन खाना आदि पेट में कृमि होने के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) कुटज के बीजों का चूर्ण आधा चम्मच प्रतिदिन रात को सोते समय खाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (2) अनार की जड़ की छल 50 ग्राम,पलाश के बीज का चूर्ण 5 ग्राम,बायबिडंग 10 ग्राम,सबको 250 मिलीलीटर पानी में उबालकर 

                    छानकर रख लें और चार दिन तक 50 मिलीलीटर की मात्रा एक -एक घंटे में पिलाने पर पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

              (3) अनार की जड़ का काढ़ा बनाकर मीठे तेल को मिलाकर तीन दिन सेवन करने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (4) अनार के छिलके का चूर्ण तीन ग्राम दही या छाछ के साथ सेवन करने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (5) बायबिडंग,सेंधा नमक,हरड़,निशोथ,पीपल,सेचर नमक,भुनी हींग सामान भाग लेकर सुबह शाम गर्म जल के साथ एक चुटकी 

                    छोटे को और दो चुटकी बड़ों को खिलने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।  

              (6) प्याज के रस में सेंधा नमक मिलाकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।   

              (7) 50 ग्राम सोनामक्खी,50 ग्राम गुलकंद,20 ग्राम मुनक्का,20 शहद ग्राम,20 ग्राम हरड़ की छाल, 20 ग्राम सोंठ सबको पीसकर 

                   मिला लें और छोटी छोटी गोली बनाकर दूध के साथ लेने से कुछ ही दिनों में पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (8) बायबिडंग और सोंठ को पीसकर सेवन करने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (9) कद्दू के रस पीने से भी पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (10) आंवले का रस पीने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (11) बथुआ के बीजों को पीसकर शहद के साथ मिलाकर खाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

              (12) गुड़ और लहसुन समान भाग लेकर खाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मुँह ,दांत के रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग