small pox disease

चेचक छोटी माता रोग :- चेचक छोटी माता रोग एक अत्यंत संक्रामक रोग है ,जो वेरीसेल्ला जोस्टर नामक वायरस से फैलती है ।यह बीमारी अत्यंत संक्रामक होने के कारण संक्रमित व्यक्ति के शरीर से निकलने वाले पदार्थों के संपर्क में आने से अन्य व्यक्ति संक्रमित हो जाता है। यह बीमारी इतनी ज्यादा संक्रामक होती है कि संक्रमित व्यक्ति के निसृत पदार्थों को सांस के साथ अंदर ग्रहण करने से भी संक्रमित हो जाता है।चेचक छोटी माता रोग से संक्रमित व्यक्ति के पूरे शरीर पर फुंसियों जैसी चकत्ते विकसित हो जाती हैं और फुंसी खुजली के लिए बाध्य कर सकती है। इस रोग में पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है ,नतीजन भूख नहीं लगती है।इस बीमारी से इन्फेक्टेड होने पर विकसित होने में 10 से 21 दिन तक का समय लग जाता है।कमजोर इम्यून वाले , गर्भवती ,शिशु , किशोर इस बीमारी से जल्दी संक्रमित हो सकते हैं।

लक्षण :- बुखार , दर्द ,सिरदर्द , भूख न लगना , खांसी और गले में खराश ,थकान , लाल फुंसियां ,तरल युक्त फफोले और बाद में पपड़ी निकलना , खुजली होना , उल्टी , जी मिचलाना कमर में दर्द , सीने में जकड़न आदि चेचक छोटी माता रोग के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :-  वेरीसेल्ला जोस्टर वायरस , चेचक से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने जैसे -लार , खाँसना , छींकना ,फफोले के तरल पदार्थों को छूने आदि चेचक छोटी माता के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) नारियल पानी प्रतिदिन पीने से छोटी माता चेचक में बहुत आराम मिलता है और शरीर को शीतलता प्रदान कर राहत देती है।

(2) फलों का रस अधिक सेवन करने से एवं साथ ही फलों को खाने से विशेष कर अंगूर , केले , सेब , खरबूजे आदि नरम फल ; शरीर को वायरस से लड़ने की शक्ति मिलती है और चेचक से जल्दी मुक्ति मिल जाती है।

(3) एक कटा हुआ गाजर और एक कप कटा हुआ धनिया पत्ता को दो तीन कप पानी में उबालें और छानकर दिन में दो बार पीने से छोटी माता चेचक रोग ठीक हो जाता है।

(4) तुलसी पत्ते की चाय के सेवन से भी छोटी माता चेचक रोग दूर हो जाता है।

(5) बेकिंग सोडा पानी में डालकर स्नान करने से भी छोटी माता चेचक रोग ठीक हो जाता है ।

(6) ताज़ी सब्जियां , कच्चे फलों के सेवन एवं ककड़ी , खीरा ,टमाटर , पालक , तरबूज , कीवी और अंकुरित अनाज के सेवन से चेचक रोग में बहुत आराम मिलता है और जल्दी ठीक हो जाते हैं ।

(7) चेचक हो जाने के बाद शरीर के सफाई का विशेष ध्यान रखकर भी हम जल्दी ठीक हो सकते हैं।

(8) विटामिन सी ,जैतून के पत्ते का अर्क , लहसुन , अजवायन के तेल आदि के सेवन से भी चेचक में बहुत आराम मिलता है।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग