blurred vision disease

धुंधली दृष्टि रोग : - धुंधला दिखाई देना आँखों की एक आम समस्या है ,किन्तु गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है। धुंधला दिखना निकट दृष्टि दोष,दूर दृष्टि दोष,दृष्टि वैषम्य,मोतिया बाँध आदि विकारों के कारण भी हो सकता है,जो सुधारात्मक लेंस या जीवन शैली में बदलाव के माध्यम से सुगमतापूर्वक दूर किया जा सकता है या यूँ कहें कि निराकरण संभव है। आज के परिवेश में प्रदूषित वातावरण,प्रदूषित खाद्य पदार्थों के सेवन एवं फ़ास्ट फ़ूड के उपयोग से छोटे - छोटे बच्चे भी इसके शिकार हो रहे हैं जो अत्यंत चिंताजनक स्थिति है। आज बच्चे एवं युवा के साथ - साथ बुजुर्ग भी मोबाईल यंत्र का अत्यधिक प्रयोग करते हैं और मोबाइल पर कुछ न कुछ करते रहते हैं जिसका प्रभाव आँखों पर पड़ना स्वाभाविक है। इन सब कारणों से मस्तिष्क की कमजोरी,पाचन विकार,असंतुलित खाद्य पदार्थ,विटामिन ए की कमी आदि के कारण भी धुंधली दृष्टि या धुंधला दिखाई देना एक प्रमुख कारण है। 

लक्षण :- आँखों में धीमा दर्द,हल्की धुंधली दृष्टि,सोने या आराम करने से कम हो जाना,अधिक आंसू आना,प्रकाश के चारों ओर घेरा दिखाई देना,सिरदर्द,जी मिचलाना,उल्टी होना,पलकों पर सूजन होना आदि धुंधली दृष्टि रोग के प्रमुख कारण हैं। 

कारण :- मधुमेह,उच्च रक्तचाप,कम रौशनी में कार्य करना,अँधेरे कमरे में टीवी देखना,कम रश्मि में पढ़ना,धूम्रपान,अधिक शराब का सेवन,हरी पत्तियों वाली सब्जियां नहीं खाना,कंप्यूटर पर काम करना,तनाव आदि धुंधली दृष्टि रोग के मुख्य कारण हैं। 

उपचार :- (1) शुद्ध शहद की एक या दो बूंदें प्रतिदिन डालने से धुंधली दृष्टि रोग ठीक हो जाता हैं। 

(2) सोंफ एवं धनिया समान भाग लेकर कूट पीस कर और उसमें बराबर मात्रा मिश्री मिलाकर प्रतिदिन पांच ग्राम की मात्रा सुबह - शाम सेवन करने से धुंधली दृष्टि रोग ठीक हो जाता हैं। 

(3) चुकुन्दर एवं गाजर को टुकड़े - टुकड़े कर एक गिलास जल में धीमी आंच पर उबालें और आधा शेष रहने पर छानकर सुबह - शाम पीने से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं। 

(4) दूध में बादाम को भिंगों कर रात भर रखें और सुबह खाने से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं। 

(5) इलायची के दो - तीन छोटे -छोटे टुकड़े को दूध में पीसकर उबालें और सोते समय पीने से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं। 

(6) ब्लू बेरी के सेवन से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं। 

(7) एक चम्मच मुलेठी पाउडर को एक कप गर्म दूध में डालें और उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं।

(8) सोंफ,सफ़ेद मिर्च और बादाम समान भाग लेकर महीन पीसकर चूर्ण बनाकर उसमें समान भाग मिश्री मिलाकर सुबह - शाम सेवन करने से धुंधली दृष्टि रोग दूर हो जाता हैं। 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मुँह ,दांत के रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग