bronchitis disease

श्वासनली में सूजन रोग : - श्वासनली में सूजन एक आम बीमारी है ,जो बाहरी कारणों से श्वासनलियों की श्लैष्मिक कला में सूजन के कारण होता है। वायुमंडल में धूलकणों की अधिकता,धुंआ,प्रदूषण,दुर्गन्ध,जहरीली गैसें आदि की वजह से श्वास नली में सूजन आ जाना एक गंभीर समस्या है। गर्म वातावरण से सर्दी के मौसम में आने से श्वास नली में सूजन आने की समस्या आमतौर पर ज्यादा देखने को मिलती है। इस रोग से ग्रसित व्यक्ति साँस लेने एवं छोड़ने में परेशानी अनुभव करने लगता है और छाती से घरघराहट की आवाज आती है। पर्याप्त ऑक्सीजन ग्रहण करने में फेफड़े अपने आपको असमर्थ पाते हैं। वास्तव में श्वासनली में सूजन की सूजन का समय रहते उपचार न कराने से जानलेवा साबित होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है। अतः उपचार श्वासनली के सूजन के उपचार की सख्त आवश्यकता होती है और इसे नजरअंदाज करना जीवन को खतरे में डालने जैसा है। 

लक्षण :- हल्का बुखार,ठण्ड लगना,सुखी खांसी,साँस लेने में रूकावट,घर्र घर्र की आवाज आना,बलगम आना,गले में खराश,सीने में दर्द,साँस फूलना,आदि श्वासनली में सूजन रोग के प्रमुख लक्षण हैं। 

कारण :- अधिक धूम्रपान करना,धूल - मिट्टी की एलर्जी,कोयले की खान में काम करना,चक्की पर कार्य करना,गर्म मौसम से अचानक सर्दी के मौसम में आ जाना,आनुवंशिक कारण आदि श्वासनली में सूजन रोग के मुख्य कारण हैं। 

उपचार :- (1)अदरक स्वरस एवं शहद मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से श्वासनली में सूजन रोग ठीक हो जाता है। 

(2) लहसुन की तीन - चार कलियों को काटकर दूध में उबालकर सोते समय रात्रि में पीने से श्वासनली में सूजन रोग ठीक हो जाता है। 

(3) एक चम्मच हल्दी दूध में डालकर उबालें और खाली पेट एक चम्मच देशी घी डालकर प्रतिदिन दो - तीन बार पीने से श्वासनली में सूजन रोग दूर हो जाता है। 

(4) यूकोलिप्टस ऑयल की कुछ बूंदें पानी में डालकर उबालकर स्टीम लेने से श्वासनली में सूजन रोग ठीक हो जाता है। 

(5) शहद के नियमित सेवन से भी श्वासनली में सूजन रोग दूर हो जाता है। 

(6) प्याज का रस एक चम्मच एवं शहद मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से श्वासनली में सूजन रोग दूर हो जाता है। 

(7) नीम्बू या संतरे का जूस प्रतिदिन सेवन करने से श्वासनली में सूजन रोग दूर हो जाता है। 

(8) तिल व गुड़ के लड्डू के सेवन से भी श्वासनली में सूजन रोग दूर हो जाता है। 

 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मुँह ,दांत के रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग