urinary tract infection disease

मूत्र मार्ग संक्रमण रोग : - मूत्र मार्ग संक्रमण रोग एक आम रोग है ,जो सार्वजानिक शौचालय का उपयोग करते समय साफ -सफाई न होने ,ज्यादा देर तक मूत्र को रोक कर रखने एवं पश्चिमी स्टाइल शौचालय के प्रयोग करने के कारण होता है। इस रोग में बैक्टीरिया मूत्र मार्ग से हमारे मूत्र के रास्ते में प्रवेश कर मूत्राशय में संक्रमण फैला देता है ,जो गर्मियों में दूषित पानी के सेवन के कारण भी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। मूत्र मार्ग संक्रमित महिलाओं के साथ के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध पुरुषों को भी संक्रमित कर सकता है। भारत जैसे देश में खासकर महिलाओं को घर से बाहर जाने पर शौचालय की ज्यादा समस्या होती है और वे मूत्र को अधिक देर तक रोक कर रखने के लिए बाध्य होती हैं ,जो मूत्र मार्ग संक्रमण का एक कारण है। यदि समय रहते उपचार न होने पर यह एक गंभीर स्थिति उत्पन्न कर सकती है एवं ब्लैडर ,किडनी भी संक्रमित होने की संभावना बन जाती है। वास्तव में महिलाओं को इस रोग से ज्यादा संक्रमण का खतरा होता है। 

लक्षण :- पेशाब का बार - बार आना,कम मात्रा में आना,मूत्र त्याग की तीव्र इच्छा,पेशाब करते समय जलन,पेशाब में बदबू आना,पेट में मरोड़ जैसी पीड़ा,हल्का बुखार जैसा अनुभव,मांसपेशियों में दर्द महसूस होना,स्त्रियों में श्रोणि की मध्य में दर्द,कभी - कभी ठण्ड लगना,उल्टी,मूत्र मार्ग में सूजन एवं जलन,योनि में खुजली,योनि से डिस्चार्ज आदि मूत्र मार्ग संक्रमण रोग की प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- बैक्टीरिया का संक्रमण,फंगस का संक्रमण,सार्वजानिक शौचालय का इश्तेमाल करना,दूषित पानी का प्रयोग करना,मेनोपॉज,प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ जाना,डायबिटीज,गर्भावस्था,असुरक्षित यौन सम्बन्ध,पश्चिमी स्टाइल शौचालय का प्रयोग करना आदि मूत्र मार्ग संक्रमण रोग की मुख्य कारण हैं। 

उपचार :- (1) विटामिन सी की प्रतिदिन कुछ दिनों तक सेवन करने से मूत्र मार्ग संक्रमण रोग ठीक हो जाता है। 

(2) क्रेनबेरी जूस की सेवन से भी मूत्र मार्ग संक्रमण का रोग ठीक हो जाता है। 

(3) सेब का सिरका दो चम्मच एवं एक चम्मच शहद एक गिलास गुनगुने जल में मिलाकर पीने से मूत्र मार्ग का संक्रमण रोग ठीक हो जाता है। 

(4) प्रतिदिन कुछ घंटों में तीन - चार गिलास जल पीने से भी मूत्र मार्ग संक्रमण रोग ठीक हो जाता है। 

(5) खट्टे फलों की नियमित सेवन करने से जिसमें सिट्रस एसिड की बहुलता होती है मूत्र मार्ग संक्रमण को दूर कर देता है। 

(6) नारियल पानी की सेवन से जिसमें विटामिन,एमिनो एसिड,मिनरल,साइटोकाइन होती है मूत्र मार्ग संक्रमण को दूर कर देता है। 

(7) नारियल पानी में गुड़ एवं धनिया पाउडर मिलाकर सेवन करने से मूत्र मार्ग संक्रमण की दौरान होने वाले जलन को दूर कर देता है। 

(8) जननांग की स्वच्छता का ध्यान रखकर भी मूत्र मार्ग संक्रमण रोग से बचे रह सकते हैं। 

(9) योनि को फिटकरी मिले हुए पानी से धोने से मूत्र मार्ग संक्रमण रोग ठीक हो जाता है। 


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मुँह ,दांत के रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग