vaginal burning

योनि में जलन :- महिलाओं को योनि में जलन होना एक आम समस्या है;किन्तु अनवरत जलन होना किसी गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकता है।योनि में जलन यीष्ट इन्फेक्शन,अत्यधिक सम्भोग क्रिया में लगे रहने,सूजन आदि के कारण होता है।ज्यादातर मामले में योनि में वैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण ही जलन होती है।कभी -कभी काम पानी पीने के कारण शरीर में जल की कमी हो जाती है और पेशाब की कमी हो जाने के कारण जलन होती है।जागरूकता की कमी के कारण योनि की स्वच्छता नहीं रख पाने की वजह से भी जलन होना सामान्य सी बात है।

लक्षण :- योनि में जलन होना,निचले हिस्से में दर्द होना,सम्भोग एवं पेशाब के दौरान परेशानी,चिड़चिड़ापन,रात में पसीना,खुजली होना,पतला सफ़ेद रंग का डिस्चार्ज,सेक्स के उपरांत मछली जैसी गंध आना,कामेच्छा में कमी,थकान,सूजन,लालिमा,योनि के बाहर लाल चकत्ते,मूत्र विसर्जन के समय अंदरूनी जलन होना,दर्द होना,मूत्र का कम होना,बुखार एवं ठंड लग्न,मूत्र विसर्जन के समय दर्द,पेशाब झागदार होना,बार - बार पेशाब आना आदि योनि सूजन के प्रमुख लक्षण हैं।

कारण :- मूत्र पथ में संक्रमण होना,गर्भ निरोधक या कंडोम का प्रयोग,योनि में यीष्ट संक्रमण,ट्राइकोमोनिएसिस,गोनोरिया,जननांग में दाद होना,जननांग में मस्से होना,लाइकेन स्क्लेरोसिस,रजोनिवृत्ति,स्वीमिंग पूल या वाटर पार्क में स्नान करना,जननागों पर सुगन्धित या परफ्यूम का प्रयोग करना आदि योनि में जलन के मुख्य कारण हैं।

उपचार :- (1) एक कप गुनगुने जल में एक छोटा चम्मच सेब का सिरका एवं दो चम्मच शहद मिलकर सुबह शाम पीने से योनि की जलन दूर 

                   हो जाती है।

(2) नारियल तेल को अपनी योनि के प्रभावित हिस्से पर लगाएं और कुछ समय पश्चात् गुनगुने जल से धोने से योनि की जलन ठीक हो जाती है।

(3) लहसुन की दो -तीन कलियों की प्रतिदिन सेवन से योनि की जलन ठीक हो जाती है।

(4) विटामिन सी से युक्त फलों जैसे संतरा,अंगूर,अनानास,मुसम्मी आदि की रस प्रतिदिन सुबह -शाम सेवन करने से योनि की जलन दूर हो 

     जाती है।

(5) दही की प्रतिदिन सेवन से योनि की जलन दूर हो जाती है।

(6) मिल्क शेक की सेवन से भी योनि की जलन दूर हो जाती है।

(7) खीरे,टमाटर,आलू की रस में नीम्बू एवं लहसुन की रस को मिलाकर पीने से योनि की जलन दूर हो जाती है।

(8) ठंडे जल में मुट्ठी भर लहसुन एवं आधा नीम्बू का रस एवं चुटकी भर नमक मिलाकर पीने से योनि की जलन दूर हो जाती है।


  बच्चों के रोग

  पुरुषों के रोग

  स्त्री रोग

  पाचन तंत्र

  त्वचा के रोग

  श्वसन तंत्र के रोग

  ज्वर या बुखार

  मानसिक रोग

  कान,नाक एवं गला रोग

  सिर के रोग

  तंत्रिका रोग

  मोटापा रोग

  बालों के रोग

  जोड़ एवं हड्डी रोग

  रक्त रोग

  मांसपेशियों का रोग

  संक्रामक रोग

  मूत्र तंत्र के रोग

  ह्रदय रोग

  आँखों के रोग

  यौन जनित रोग

  गुर्दा रोग

  आँतों के रोग

  लिवर के रोग